बिछड़ जाने के हिंदी में मतलब, वैकल्पिक मतलब

ALTERNATIVE, वैकल्पिक

secede: अलग होना, संबंध विच्छेद करना

come off: अलग होना, बच निकलना

dissociate: संबंध तोड़ना, नियोजित करना, अलग होना, असम्बद्ध होना

differ: अलग होना, मतभेद होना, विभेद होना

part clearing: अलग करना, अलग होना, आंशिक समाशोधन

divaricate: दो खंड में होना, (सड़क या डाल की) कई शाखाएँ हो जाना, शाखा फूटना, अलग होना, इधर-उधर फूटी हुई

Verb. क्रिया

separate: अलगाना, जुदा करना, पृथक बनाना, विभाग करना, विलग करना, अलग होना

fall off: अलग होना

straggle: बिखर जाना, भटक जाना, पिछड़ जाना, अलग होना, छितराना, तितर-बितर हो जाना

refrain: अड़ना, रुकना, अलग होना

वह लोग ही बिछड़ गए जो कभी हमारी जिंदगी हुआ करती थी हिंदी में मतलब & टिप्स

जिसे आप अपना समझते थे वहीं आपसे बिछड़ गया, इस वाक्य की हमने नीचे फूल डेफिनेशन दी है, आप खुद को समझाने के लिए इसे पड़ सकते हैं। किसी का आपसे बिछड़ जाना और उस दुख का आपको एहसास होना ये पल बहुत ज्यादा दुःख भरा होता है, इस पल में आप थोड़ा घूमेंगे तो आप थोड़ा अच्छा महसूस करेंगे।

अगर कोई इंसान आपसे बिछड़ा है तो हो सकता है उसका आपसे बिछड़ने का कोई कारण हों, पर आप यह मत समझना के वह इंसान आपको भूल गया। पर कुछ लोग ऐसे होते हैं जो किसी की जिंदगी के साथ खिलवाड़ करते हैं, और समय आने भूल जाते हैं।

अगर आप उस इंसान पर विश्वास करते हैं जिसे आप अपनी ज़िंदगी समझते थे, और वो भी आपको अपना समझता था तो वह इंसान आपको कभी नहीं भुला सकता और ना ही धोखा दे सकता। इस स्थिति में कोई इंसान किसी कारण के वजह दूर हो जाता है। बस उस इंसान से आप मिलने का इंतजार करें। हो सकता है वो भी आपसे मिलने का इंतजार कर रहा हो।

हर किसी की ज़िंदगी में गॉड ने सुख और दुःख के साथ बिछड़ना या अलग होने का एहसास भी हर किसी को दिया है। किसी का बिछड़ना इस ज़िंदगी में एक आम बात है। अगर कोई इंसान आपके बहुत नजदीक आया है तो वह इंसान आपसे एक ना एक दिन आपसे दूर भी जरूर होगा। दूरी एक ऐसा एहसास है जिससे कोई इंसान किसी के बहुत नजदीक चला जाता है, और यह एहसास किसी इंसान के लिए बहुत मायने रखता है, और उसको किसी का होने के लिए मजबुर कर देता है।

वह लोग ही बिछड़ गए जो कभी हमारी जिंदगी हुआ करती थी हिंदी में मतलब

अगर कोई इंसान आपसे अलग हुआ है तो हो सकता वह इंसान आपके पहले से ज्यादा अब नजदीक आना चाहता हो। और दूरियां किसी इंसान के बारे में किसी को सोचने के लिए मजबुर कर देती हैं। दूरियों का यही वो एहसास है जब कोई इंसान अपनी ज़िंदगी का हक किसी और इंसान को दे देता है, और वह उसका हो जाता है। आप इस एहसास को लव भी बोल सकते हैं।

तो जरा सावधान रहिए जनाब दुनियां बहुत चालाक हो गई है, अगर आपके पास अच्छा खासा पैसा है तो लोग आप ही के गुण गाने लगेंगे। बिछड़ने या अलग होने का एहसास तो आप अपने दिमाग में बिल्कुल भी ना रखें। जो आपसे बिछड़ा है हो सकता है उस इंसान से भी ज्यादा आपकी लाइफ कोई और आने वाला हो। ये दुनियां बहुत बड़ी है, आपके चाहने वाले इस दुनिया में बहुत से मिल जाएंगे बस आपको सही इंसान चुनकर दिल लगाने की जरूरत है।

किसी इंसान को दिल में बसाने से पहले उसके साथ थोड़ा समय बिताना चाहिए, ताकि आप उसे अच्छे से समझ जाएं। अगर आपको लगता है के कोई इंसान आपकी ज़िन्दगी बन चुका है, और आप उसके बिना नहीं रह सकते तो आप खुद पर कंट्रोल रखें। आप किसी इंसान को बहुत ज्यादा चाहने लगें हो और दूसरा इंसान आपको बहुत कम चाहता हो, इसलिए आप उस इंसान पर उस समय विश्वास करें जब वो भी आप ही के तरह तड़प रहा हो।

अगर किसी इंसान को जबरन अपना बनाया जाए तो वह इंसान आपके एहसास को कभी नहीं समझ सकता, और आपका कभी नहीं हो सकता। इसलिए जब दो इंसानों को एक दूसरे के लिए एक जैसी फिलिंग आए तो वह एक अटूट एहसास होता है, और इस फिलिंग में दो इंसानों का एक दूसरे से अलग होना बहुत मुश्किल हो जाता है।

वह लोग ही बिछड़ गए जो कभी हमारी जिंदगी हुआ करती थी हिंदी में मतलब

बस हम तो आपसे यही कहना चाहते हैं अगर आप किसी को अपना बनाना चाहते हैं, तो वह इंसान भी आप ही के तरह सोच रखता हो, ताकि आपको भूलाने से पहले उसको हजारों बार सोचना पड़े।

अच्छे संबंध अच्छी सोच रखने वाले इंसानों से बनते हैं, बुरे संबंध बुरी सोच रखने वाले इंसानों से बनते हैं। आप जिस माहौल में रहेंगे आप वैसे ही बन जाओगे, अगर आप अच्छी सोच रखोगे तो अच्छे इंसान बनोगे, बुरी सोच बुरी नजर। माहौल से ही इंसान की सोच पर असर पड़ता है, जैसा माहौल में होता है वैसा ही उस माहौल के सभी इंसान करते हैं।

अगर कोई इंसान किसी के एहसास को समझने वाले माहौल में रहा हो तो ऐसे इंसानों के लंबे समय तक रिश्ते बने रहते हैं। यही वो इंसान हैं जो किसी का ज़िंदगी भर तक साथ नहीं छोड़ते, क्योंकि उनका उस माहौल में जन्म ही नहीं हुआ जहां किसी को धोखा या किसी के साथ गलत किया जाए। कुछ इंसानों की परिस्थितियां गलत होती हैं जिससे वह इंसान गलत बन जाते हैं, पर गलत कोई नहीं बनना चाहता बस कुछ मजबूरियां जो गलत बना देती हैं।

आज के जमाने में किसी इंसान को किसी से बिछड़ने या अलग होने का एहसास तक नहीं होता। लोग लोगो की ज़िंदगी से ही खिलबाड़ कर रहे हैं, कुछ तो जान दे देते हैं तो कुछ ज़िंदगी भर तक नहीं भुला पाते। इसलिए किसी पर भरोसा करने से पहले उसको परख लेना चाहिए, ताकि आप उसके चुंगल में ना फसें।

Author Profile

Manish Sagar
Manish SagarManish Sagar (Saurabh)
I am Manish Sagar BA graduate and I share my knowledge in Arabic, Hindi, French and English language on this website. Some of my favorite topics are like: Prayer, What, Why and How, Relationship, Husband Wife, Blogging and Lifestyle.